UAE में भारतीय कामगार का अपहरण, पुलिस अधिकारी बनकर छी'न लिया Dh1.7 मिलियन

UAE में एक भारतीय कामगार का अमीरातियों ने अ’प’ह’र’ण कर लिया। फिर उसका उसका Dh1.7 मिलियन भी लू’ट लिया है। दो अमीराती उसके पास खुद को पुलिस अधिकारी बताकर आये थे। जिनकी उम्र क्रमशः 36 और 37 साल थी। दोनों ने पहले भारतीय कामगार को यह विश्वास दिलाया कि वे सीआईडी ​​अधिकारी हैं। उसके बाद वे कामगार को अबू धाबी में एक निर्माणाधीन विला में ले गए जहाँ उन्होंने उससे पैसे लू’ट लिए। यह पैसा एक ट्रेडिंग कंपनी का था, जहां पीड़ित काम करता था।

इस मामले में दोनों कर्मचारियों पर दुबई कोर्ट ऑफ़ फ़र्स्ट इंस्टेंस में मुकदमा चला। घटना की सूचना 26 मई को नायफ पुलिस स्टेशन में दी गई गई थी। जिसके बाद पुलिस ने दोनों प्रतिवादी को गि’र’फ्ता’र कर हिरासत में ले लिया।
33 वर्षीय पीड़ित अने भियोजन पक्ष की जाँच के दौरान यह बताया कि कैसे बचाव पक्ष के लोग बानी यस की इमारत में आए, जहाँ उसने रात 9.30 बजे काम किया था। उसने कहा, “वे सीआईडी ​​अधिकारियों के रूप में सामने आए। उनमें से एक ने तब मुझे कागजात दिखाए जो उन्होंने दावा किया था कि वे संयुक्त राष्ट्र से जारी किए गए थे। उन्होंने दावा किया कि उन्होंने इंटरपोल के लिए काम किया है।”

इसके बाद पीड़ित को उनकी कार में बैठाने की बात की गई। उन्होंने कहा, “मेरे पास Dh1.7 मिलियन था। मैं दो पाकिस्तानी लोगों के साथ पीछे बैठा था। मुझसे कहा गया था कि मैं मोबाइल फोन का इस्तेमाल न करूं। लेकिन मैंने किसी तरह से अपने सहयोगी को संदेश भेज दिया।”

उन्होंने तेजी से अबू धाबी की ओर प्रस्थान किया। वहां उन्होंने उससे पैसे की थैली ली। एक पांचवें व्यक्ति, जोकि एक पाकिस्तानी था, उसने मुझे डराने के लिए जोर से से चिल्लाया। लूटने के उन्होंने पैसे को एक दूसरे के बीच विभाजित कर दिया।

एक पुलिस लेफ्टिनेंट ने कहा कि डकैती की घटना रात 10 बजे बताई गई थी। उन्होंने कहा, “हमें पीड़ित के सहकर्मी द्वारा किया गया फोन आया। हमने अबू धाबी से वापस जाते समय दुबई में बचाव पक्ष में से एक को पकड़ लिया। पीड़ित अपनी कार में था। प्रतिवादी ने कबूल किया कि उन्होंने डकैती की योजना बनाई थी और वे पहले अल क्वोज में मिले थे। ”
दोनों आरोपी युवकों के पास चोरी की गई कुछ नकदी मिली। ट्रायल 30 सितंबर को जारी रहेगा।

Leave a Comment