भारतीय कामगार की पाकिस्तानी कामगार ने किया ह’त्या, विदेश मंत्रालय से लेकर सुषमा ने लिया बड़ा ACTION

जल्‍द मिलने वाली थी लंदन की नागरिकता

आएशा इस घटना के बाद से ही सदमे में हैं। उनकी काउंसलिंग की जा रही है। फहीम कुरैशी के मुताबिक नदीम का परिवार उनके शव को अंतिम संस्‍कार के लिए हैदराबाद नहीं ला सकता है। इस बात की पूरी संभावना है कि उन्‍हें लंदन में ही दफनाया जाएगा। कुरैशी ने बताया है कि वह और उनके साथ कुछ और रिश्‍तेदार लंदन जाकर नदीम के अंतिम संस्‍कार में शामिल होना चाहते हैं। उन्‍होंने विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज को इस बाबत एक मेल किया है। इसके साथ ही उन्‍होंने तेलंगाना के गृह मंत्री मोहम्‍मद महमूद अली से भी मदद मांगी है ताकि उनके रिश्‍तेदार लंदन के लिए सफर कर सकें। कुछ माह पहले ही नदीम ने यूके में स्‍थायी प्रवास के लिए अप्‍लाई किया था। वह अपनी नागरिकता का इंतजार कर रहे थे और सभी जरूरी प्रक्रियाएं करीब-करीब पूरी हो चुकी थीं।

 

 

 

लंदन में 34 वर्षीय भारतीय युवक की बुधवार को एक मॉल के बाहर हत्‍’या कर दी गई है। न्‍यूज एजेंसी एएनआई की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक इस युवक का नाम मोहम्‍मद नदीमुद्दीन था और यह हैदराबाद के पुराने शहर के इलाके का रहने वाला था। नदीमुद्दीन की लाश सिक्‍योरिटी गार्ड्स को पार्किंग में मिली थी। मामला बर्कशायर के टेस्‍को सुपरमार्केट का है जो वेलिंगटन स्‍ट्रीट पर है। हैदराबाद में नदीमुद्दीन के करीबी रिश्तेदार की ओर से बताया गया है कि नदीमुद्दीन यहीं पर काम करते थे।

 

 

साल 2012 से थे लंदन में

नदीम के फैमिली फ्रेंड फहीम कुरैशी की ओर से बताया गया है, ‘उनके माता-पिता और उनकी पत्‍नी भी लंदन में ही रह रहे हैं। जब नदीम काफी देर तक ड्यूटी से वापस नहीं लौटे तो घरवालों ने सुपरमार्केट में फोन किया। सुपरमार्केट के कर्मचारी सिक्‍योरिटी गार्ड के साथ मॉल में उन्‍हें तलाशने गए और यहीं पर पार्किंग में उन्‍हें नदीम का शव मिला।’शुक्रवार को पोस्‍टमार्टम किया गया और पुलिस को शक है कि नदीम की हत्‍या पाकिस्‍तान के नागरिक ने की है जो उनके साथ ही सुपरमार्केट में काम करता था।

 

 

 

नदीम हैदराबाद के कॉलेज से ही ग्रेजुएट हुए थे और साल 2012 में लंदन गए थे। यहां पर उन्‍हें एक सुपरमार्केट में नौकरी मिल गई और फिर उनके माता-पिता भी उनके साथ रहने लगे। फहीम ने कहा, ‘उनकी पत्‍नी आएशा जो एक डॉक्‍टर हैं, 25 दिन पहले ही लंदन गई थीं। वह गर्भवती हैं और अब भारत वापस नहीं आ सकती हैं क्‍योंकि नियमों के तहत उन्‍हें ट्रैवल करने की मंजूरी नहीं होगी।’

 

 

जल्‍द मिलने वाली थी लंदन की नागरिकता

आएशा इस घटना के बाद से ही सदमे में हैं। उनकी काउंसलिंग की जा रही है। फहीम कुरैशी के मुताबिक नदीम का परिवार उनके शव को अंतिम संस्‍कार के लिए हैदराबाद नहीं ला सकता है। इस बात की पूरी संभावना है कि उन्‍हें लंदन में ही दफनाया जाएगा। कुरैशी ने बताया है कि वह और उनके साथ कुछ और रिश्‍तेदार लंदन जाकर नदीम के अंतिम संस्‍कार में शामिल होना चाहते हैं। उन्‍होंने विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज को इस बाबत एक मेल किया है। इसके साथ ही उन्‍होंने तेलंगाना के गृह मंत्री मोहम्‍मद महमूद अली से भी मदद मांगी है ताकि उनके रिश्‍तेदार लंदन के लिए सफर कर सकें। कुछ माह पहले ही नदीम ने यूके में स्‍थायी प्रवास के लिए अप्‍लाई किया था। वह अपनी नागरिकता का इंतजार कर रहे थे और सभी जरूरी प्रक्रियाएं करीब-करीब पूरी हो चुकी थीं।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Bitnami