भागलपुर में बन रहा आं’दोलन जैसा मा’हौल, बड़ी वजह आयी सामने, हो सकता है नयी ट्रेन का ऐ’लान

रांची एक्सप्रेस को भागलपुर से हटाकर सहरसा से चलाने की घाेषणा की विभिन्न संगठनाें ने विराेध किया है। अलग-अलग संगठनाें की ओर से जन जागरण अभियान, हस्ताक्षर अभियान जारी है। मंगलवार काे नागरिक सेवा समिति ने इस घोषणा को वापस लेने काे लेकर लाेहिया पुल, हज़रत पीर दमड़िया मस्जिद, दरगाह, मदरसे में हस्ताक्षर अभियान चलाया। समिति के अध्यक्ष रिजवान खान ने कहा कि इसे लेकर हम अपनी आखरी सांस तक संघर्ष करेंगे।

 

माैके पर जावेद, अख्तर, हमाद, आज़म, अजहर, नवाजिश, उमर फारुख आदि मौजूद थे। वहीं युवा एकता सामाजिक संगठन के अध्यक्ष अाेमप्रकाश उपाध्याय ने कहा कि सरकार इस ट्रेन के स्थांतरण पर राेक नहीं लगाती है ताे भागलपुर से दिल्ली तक आंदोलन किया जाएगा। मानवाधिकार संरक्षण प्रतिष्ठान ने राष्ट्रीय महासचिव सलीम सुगंध के नेतृत्व में स्टेशन अधीक्षक के समक्ष माैन धरना दिया।

ईस्टर्न बिहार चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज ने मंगलवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखा है। इस पत्र में चेंबर अध्यक्ष अशेाक भिवानीवाला ने लिखा है कि भागलपुर से रांची के लिए चलने वाली ट्रेन को सहरसा के रास्ते न किया जाए। यह मालदा डिवीजन को अच्छा राजस्व देती है और व्यापारियों के लिए भी यह मुफीद ट्रेन है। उन्होंने मालदा डीआरएम के मंतव्य का भी उल्लेख किया है कि उन्होंने इस ट्रेन को यथावत रखने की अनुशंसा की है। सहरसा-मुंगेर-जमालपुर-रांची रूट पर भी इसे चलाने को यथोचित बताया है। नई ट्रेन चलाने की अनुशंसा भी है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.