कुवैत देश में आपातकाल घोषित की बैठक, 4-8 महीने के खाने की स्टोरेज की घोषणा, सेना सउदी के लिए Exercise पर उतरी

अभी-अभी खाड़ी देश के  कुवैत से सबसे बड़ी खबर आ रही है,  खाड़ी देशों में चल रहे जबरदस्त बड़े टेंशन के बीच में अभी-अभी कुवैत ने एक बड़ा बयान जारी किया है.  इस बयान के बाद कुवैत में लोगों के अंदर चिंताएं बढ़ गई हैं और आगे के समय को लोग इमरजेंसी के अलार्म के तौर पर देख रहे हैं.

 अभी-अभी कुवैत के बड़े अधिकारी बैठक के बाद कुवैत ने कहा है कि कुवैत में अभी-अभी देश के सारे स्टोरेज सेंटर को अलर्ट पर रखा है और यह सुनिश्चित किया है कि पूरे कुवैत में 4 से 8 महीने का खाना रिजर्व रहे,  और यह आपात स्थिति में लागू रहेगा. यह आधिकारिक बयान वैध के अपने अधिकारी न्यूज़ एजेंसी KUNA ने दिया है.

 

 बयान में यह कहा गया है  कि कुवैत में आपात स्थिति के लिए तैयारी शुरू कर दी गई हैं,  यह बयान कुवैत के कुवैत फ्लोर मिल और बेकरी कंपनी ke CEO Mutlaq al-Zayed  ने दिया है. उन्होंने कहा कि कुवैत साम्राज्य के अंतर्गत इमरजेंसी अलार्म के तहत पूरे कुवैत राज्य में सऊदी और ईरान के बीच चल रहे वस्तु स्थिति के अनुरूप अगर कुवैत को भी युद्ध में शामिल होना पड़ा तो लगभग 8 महीने तक की रसद आपात स्थिति में उपलब्ध रहेगी जो कि कुवैत के स्टोरेज घरों में सुरक्षित है.

 साथी कुवैत ने यह भी कहा है कि बुधवार से ही कुवैत की आर्मी मिलिट्री एक्सरसाइज शुरू कर दी है और सऊदी के साथ कंधा मिलाने के लिए तैयार रहेगा,  कुवैत भी यह मानता है कि ईरान ने सऊदी के ऊपर हमला किया है जिसके उपरांत मध्य एशिया में माहौल उथल-पुथल हो गया है, और इस बात से कतई इंकार नहीं किया जा सकता है अमेरिकी हस्तक्षेप ओं के बीच सऊदी और ईरान के बीच युद्ध ना हो या वस्तु स्थिति शांतिप्रिया रहे.

 कुवैत ने आधिकारिक रूप से यह जारी कर के बयान में कहा कि इस हमले ने सऊदी अरब के तेल संयंत्र के 50% हिस्से को बेकार कर दिया है और यह इतनी बड़ी क्षति है जिससे सऊदी की अर्थव्यवस्था के ऊपर सीधा हमला माना जाएगा और यह हर तरीके से किसी भी दो देशों के बीच डायरेक्टरेट ऑफ वार माना जाएगा जिसके तहत एक्शन के तौर पर कोई भी देश युद्ध अपने बचाव को लेकर शुरू कर सकता है और यह पूरी की पूरी तरीके से युद्ध नीति के अनुरूप होगा.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.