अरब से भागी महिला कामगार, भारत पहुँच बन गयी IPS अफ़िसर, UPSC की तैयारी कर हिलाया देश…

2018 यूपीएससी की परिक्षा में बुशरा बानो की 277 रैंक आई थी। यूपी के कन्नौज जिले में बुशरा बानो रहती हैं। बुशरा ने यूपीएससी की तैयारी साऊदी अरब से वापस आने के बाद की थी। बुशरा अपने देश के लिए कुछ करना चाहती थी इसलिए उसने यूपीएससी की परीक्षा देने का सोचा। बुशरा के इस फैसले पर उनके पति ने उसका पूरा साथ दिया।

 

बुशरा ने अपने इंटरव्यू में बात करते हुए कहा कि उनसे अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से पीएचडी की हुई है। एएमयू की रेजिडेंशियल कोचिंग एकेडमी की बुशरा छात्रा रही है। जब बुशरा पढ़ रही थी तभी घरवालों ने मेरठ के असमर हुसैन से उसकी शादी कर दी थी।

साऊदी अरब की यूनिवर्सिटी में बुशरा के पति असमर प्रोफेसर बन गए थे। बुशरा साल 2014 में अपने पति के साथ ही असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर काम करना शुरू कर दिया था। लेकिन बुशरा शुरू से ही अपने देश के लिए कुछ करना चाहती थी।

वापस भारत बुशरा साल 2016 में आई थीं

बुशरा ने कहा कि उसका जीवन साऊदी अरब में अच्छा बीत रहा था। लेकिन वह हमेशा से ही अपने देश के लिए कुछ करना चाहती थीं। जब बुशरा ने अपने पति को अपने मन की बात बताई तो उनके पति ने उनका साथ दिया। उसके बाद वह भारत साल 2016 में वापस आ गए।

बुशरा ने कहा कि, मैं देश आकर दोनों बच्चों को संभालती थी और रोज 10 से 15 घंटे तक पढ़ती थी। इस दौरान मुझे यह सलाह दी गई थी कि वह सोशल मीडिया से बिल्कुल भी दूर रहे। लेकिन मैंने सोशल मीडिया का थोड़ा बहुत तो सहयोग लिया ही है।

 

फेल हो गईं थीं पहले अटेंप्ट में

यूपीएससी की परिक्षा पहली बार बुशरा ने साल 2016 में दी थी। उसका रिजल्ट 2017 में आया था तो उसमें बुशरा का नाम नहीं था। बुशरा ने इस बारे में कहा कि, मैंने बिल्कुल भी हिम्मत नहीं हारी। मैंने उसके बाद दोगुनी मेहनत से तैयारी की। उसके बाद 2019 में रिजल्ट आया तो उसमें बुशरा का नाम था।

एनसीएल बीमा परियोजना में मैनेजमेंट ट्रेनिंग एचआर पद पर बुशरा बानो साल 2017 में थी। बुशरा बानो जिस क्षेत्र में है उस क्षेत्र में पहली बार किसी महिला का आईएएस परीक्षा में चयन हुआ है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Bitnami